Bank Minimum Balance : सरकारी एवं प्राइवेट बैंक में अब इतना रखना होगा मिनिमम बैलेंस, चेक करें डिटेल्स.

देशभर के विभिन्न सरकारी या प्राइवेट बैंकों में ग्राहकों को सेबी के अकाउंट खाते को चालू रखने के लिए कम से कम बैंक द्वारा तय की गई न्यूनतम राशि रखनी ही होती है। जिसे आमतौर पर मंथ एवरेज मंथली बैलेंस या न्यूनतम शेष राशि कहा जाता है।

इस सीमा से नीचे अकाउंट बैलेंस आने पर बैंक की ओर से ग्राहकों पर पेनाल्टी या जुर्माना लगाया जाता है। ये नियम हर बैंकों के लिए अलग-अलग हैं। कई मायनों में सेविंग अकाउंट के प्रकार पर भी निर्भर करती है। आज हम आपको सभी बैंकों के एवरेज मंथली बैलेंस मतलब न्यूनतम शेष राशि के बारे में बताएंगे जिसे मेन्टेन करने के बाद आपके खाते से जुर्माना नहीं काटी जाएगी।

भारतीय स्टेट बैंक (SBI)

एसबीआई के बेसिक सेविंग अकाउंट में एएमबी की जरूरत को मार्च 2020 में खर्च कर दिया गया था। इस रिवीजन से पहले एसबीआई खाताधारकों को एक मेट्रो एरिया, सेमी अर्बन एरिया और रूरल एरिया में क्रमश: 3,000 रुपये, 2,000 रुपये या 1,000 रुपये का मासिक बैलेंस रखना पड़ता था। ये पूरा नहीं करने पर हर महीने 5 रुपये से 15 रुपये के बीच जुर्माना लगाया जाता था।

एचडीएफसी बैंक

एचडीएफसी बैंक के साथ बचत खाता ग्राहकों को शहरी क्षेत्रों और मेट्रो शहरों में 10,000 रुपये का औसत मासिक बैलेंस बनाए रखना जरूरी है। सेमी अर्बन में ये लिमिट 5,000 रुपये है। ग्रामीण इलाकों में सेविंग अकाउंट में ग्राहकों को औसतन 2,500 रुपये का बैलेंस रखना आवश्यक है। मिनिमम अमाउंट नहीं होने पर जुर्माना लगता है।

आईसीआईसीआई बैंक

आईसीआईसीआई बैंक के साथ बचत खाता ग्राहकों को शहरी क्षेत्रों और मेट्रो शहरों में 10,000 रुपये का औसत मासिक बैलेंस बनाए रखना जरूरी है। सेमी अर्बन शहर में ये लिमिट 5,000 रुपये है। ग्रामीण इलाकों में सेविंग अकाउंट में ग्राहकों को औसतन 500 रुपये का बैलेंस रखना आवश्यक है। मिनिमम अमाउंट नहीं होने पर जुर्माना लगता है।

यह भी पढ़े   IOB FD Rates : एफडी पर इस बैंक में मिल रहा है जोरदार ब्याज, फटाफट एफडी करवा रहे हैं लोग.

पंजाब नेशनल बैंक

शहरी इलाकों में पंजाब नेशनल बैंक की शाखाओं में बचत खाताधारकों को तिमाही आधार पर 20,000 रुपये का बैलेंस रखना जरूरी है। अर्ध-शहरी एरिया में 1,000 रुपये और ग्रामीण इलाके में 500 रुपये हैं।

कोटक महिंद्रा बैंक

कोटक महिंद्रा बैंक बचत खाताधारकों को मेट्रो क्षेत्रों में 10,000 रुपये और गैर-मेट्रो इलाके में 5,000 रुपये का औसत मासिक बैलेंस रखना होगा। मिनिमम बैलेंस नहीं होने पर 6 फीसदी महीने का चार्ज लगेगा।