8TH PAY COMMISSION : केंद्रीय कर्मचारियों की सैलरी चीते की तरह छलांग लगाएगी सैलरी, 8वें वेतन पर आई गुड न्यूज.

8TH PAY COMMISSION : कुछ दिन पहले ही केंद्र की मोदी सरकार द्वारा केंद्रीय कर्मचारियों और पेंशनभोगियों के लिए डीए बढ़ोतरी का ऐलान किया गया है। इस बीच अब चर्चा ह कि सरकार आम चुनाव से पहले बड़ी सौगात दे सकती है, जिससे कर्मचारियों को बड़े स्तर पर खूब फायदा होगा।

आप सोच रहे होंगे कि ऐसी क्या सौगात होगी। दरअसल, केंद्र सरकार की तरफर से जल्द ही केंद्रीय कर्मचारियों के लिए 8वां वेतन आयोग का गठन किया जा सकता है, जो हर किसी का दिल जीतने के लिए काफी है। अगर ऐसा हुआ तो फिर कर्मचारियों की लॉटरी लग जाएगी।

आखिरी बार साल 2016 में सातवां वेतन आयोग लागू किया गया था। अगला वेतन आयोग के लागू होने की उम्मीदें साल 2026 में लगाई जा रही हैं, जो किसी बड़ी सौगात की तरह होगी। दूसरी ओर सरकार ने आधिकारिक तौर पर तो कुछ नहीं कहा गया है, लेकिन मीडिया की खबरों में यह दावा किया जा रहा है।

हर दस साल में आता हा वेतन आयोग

केंद्र सरकार प्रत्येक दस साल में नया वेतन आयोग को लागू करती है, जिससे बेसिक सैलरी में रिकॉर्डतोड़ इजाफा देखने को मिलता है। दस साल के हिसाब से अगर 8वां वेतन आयोग लागू किया जाता है तो फिर साल 2026 में ऐसा होना संभव माना जा रहा है, जो हर किसी के लिए गुड न्यूज की तरह होगा।

इसका फायदा बड़ी संख्या में कर्मचारियों को होने जा रहा है। इससे पहले सरकार फिटमेंट फैक्टर में भी इजाफा कर सकती है, जिससे सैलरी चीते की तरह छलांग लगाएगी।

यह भी पढ़े   Job Worries : नौकरी की चिंता खत्म बैंक लाए ऐसा प्लान कि हर महीना होगी 60,000 रुपये की इनकम.

कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार फिटमेंट फैक्टर को बढ़ाकर 2.60 गुना से सीधे 3.0 गुना किया जा सकता है। इससे कर्मचारियों को बंपर लाभ देखने को मिलेगा। वैसे भी कर्मचारी वर्ग लंबे समय से फिटमेंट फैक्टर बढ़ाने की मांग कर रहा है, जिस पर मुहर लगने की उम्मीद है।

कुछ दिन पहले ही बढ़ाया डीए

मोदी सरकार ने कुछ दिन पहले ही केंद्रीय कर्मचारियों और पेंशनधारियों के डीए में 4 फीसदी डीए बढ़ोतरी कर तगड़ी सौगात दी थी। इसके बाद डीए बढ़कर 46 फीसदी हो गया, जिससे बेसिक सैलरी में बंपर बढ़ोतरी हुई।

इसका फायदा करीब 1 करोड़ परिवारों को होना संभव माना जा रहा है। सातवें वेतन आयोग के अनुसार, सालाना डीए में दो बार इजाफा किया जाता है, जिसकी दरें जनवरी और जुलाई से प्रभावी मानी जाती हैं। अब जो डीए बढ़ाया गया है उसकी दरें एक जुलाई से प्रभावी मानी जाएंगी।