Business Ideas : गांव से शुरू करें ये बिजनेस ! हर महीने होगी बंपर कमाई, सरकार दे रही सहायता.

PM Micro Food Industry Yojana : प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग योजना (PM Micro Food Industry Yojana) के तहत खाने-पीने की वस्तुओं का उद्योग लगाने पर सरकार की ओर से 35 प्रतिशत सब्सिडी दी जा रही है. इस योजना के तहत उद्योग के आधार (Business) पर आपको सरकार से अधिकतम 10 लाख रुपए तक सब्सिडी मिल सकती है.

 

Business Ideas : देश में बेरोजगारी का ग्राफ दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। आलम यह है कि पढ़े-लिखे लोग दिहाड़ी मजदूर के रूप में काम करने को विवश हैं। कई लोग ऐसे हैं, जो अपना घर खर्च भी आसानी से नहीं चला पा रहे हैं जनता की इन्हीं समस्याओं को देखते हुए केंद्र एवं राज्य सरकार की और से कई योजनाएं चलायी जा रही हैं। इसी क्रम में केंद्र सरकार की ओर से प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना (Prime Minister Micro Food Industry Scheme) (पीएमएफएमई) चलाई जा रही है।

इस योजना के तहत सरकार की ओर से ग्रामीण व शहरी युवक-युवतियों को उद्योग लगाने के लिए सब्सिडी दी जा रही है। इसके तहत 35 प्रतिशत सब्सिडी सरकार दे रही है। एक व्यक्ति इस योजना के तहत 10 लाख रुपए तक की सब्सिडी प्राप्त कर सकता है। इस योजना की लिस्ट में जिन उद्योगों के लिए सरकार की ओर से सब्सिडी का लाभ प्रदान किया जा रहा है उसमें आटा चक्की एवं मसाला उद्योग के अलावा बिस्कुट बेकरी, डबल रोटी या ब्रेड बनाना, आचार बनाना, पापड़ बनाना, दूध पैकिंग, दूध क्रीम, घी बनाना, पनीर, नमकीन, सैवई सहित अन्य खाद्‌य वस्तुओं का उद्योग भी शामिल है।

यह भी पढ़े   HiGreen Carbon IPO : 2 दिन में 25 गुना सब्सक्रिप्शन ग्रे मार्केट में गदर मचा रहा है IPO जानें प्राइस बैंड.

कितनी मिलती है सब्सिडी :

प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग योजना (PM Micro Food Industry Yojana) के तहत खाने-पीने की वस्तुओं का उद्योग लगाने पर सरकार की ओर से 35 प्रतिशत सब्सिडी दी जा रही है। इस योजना के तहत उद्योग के आधार पर आपको सरकार से अधिकतम 10 लाख रुपए तक सब्सिडी मिल सकती है। इस योजना के तहत सूक्ष्म उद्योग स्थापित करने पर सिविल कंस्ट्रेक्शन के साथ ही मशीनरी का भी ऋण दिया जा रहा है। इच्छुक व्यक्ति इस योजना में आवेदन करके सब्सिडी का लाभ उठा सकते हैं।

किन उद्योगों के लिए मिल सकती है सब्सिडी :

इस योजना के तहत आप आटा चक्की के अलावा मसाला पिसाई मशीन, बिस्कुट बेकरी, डबल रोटी या ब्रेड बनाना, आचार बनाना, पापड़ बनाना, दूध पैकिंग, दूध क्रीम, घी बनाना, पनीर, नमकीन, सैवई सहित अन्य खाद्‌य वस्तुओं का उद्योग स्थापित करने के लिए सब्सिडी का लाभ प्राप्त कर सकते हैं। आप यह उद्योग अपनी स्वयं की जमीन या किराये की जमीन पर लगा सकते हैं।

PMFME योजना में कैसे करें आवेदन :

योजना के तहत सब्सिडी का लाभ प्राप्त करने के लिए आपको आवेदन करने से पहले प्रोजेक्टर रिपोर्ट तैयार करवानी होगी। कृषि विपणन विभाग स्तर पर प्रोजेक्ट के लिए अधिकारी की नियुक्ति की गई है। प्रोजेक्टर फाइल तैयार करवाने के लिए आपको कोई शुल्क नहीं देना होगा। आपको आवेदन के साथ प्रोजेक्टर रिपोर्ट विभाग को देनी होगी। प्रोजेक्टर रिपोर्ट ऑनलाइन ही कृषि विपणन विभाग की ओर से बैंक को भेजी जाएगी। बैंक की ओर से कार्रवाई पूरी करने के बाद आपको ऋण स्वीकृत कर दिया जाएगा।

यह भी पढ़े   PNB MPassbook Update : PNB में हैं खाता तो आ गई बड़ी खुशखबरी घर बैठे मिलेंगे कई फायदें, जानें डिटेल.

आवेदन के लिए जरुरी दस्तावेज :

कृषि विपणन विभाग के अधिकारियों के मुताबिक योजना का लाभ लेने के लिए आवेदन करने वाला व्यक्ति राजस्थान का मूल निवासी होना चाहिए। इसके अलावा आवेदन के लिए जिन दस्तावेजों की आवश्यकता होगी, वे इस प्रकार से है

  • आवेदन करने वाले व्यक्ति का आधार कार्ड
  • आवेदन करने वाले व्यक्ति का पैन कार्ड
  • आवेदक का मूल निवास प्रमाण-पत्र
  • आवेदक का निवास प्रमाण-पत्र
  • आवेदक का आय प्रमाण-पत्र
  • आवेदक का बैंक खाता विवरण, इसके लिए बैंक पासबुक की कॉपी
  • जीएसटी नंबर
  • आवेदक का पासपोर्ट साइज फोटो
  • आवेदक का मोबाइल नंबर जो आधार से लिंक हो
  • शैक्षिणिक योग्यता के लिए कम से कम आठवीं पास का प्रमाण-पत्र अनिवार्य है।

योजना की अधिक जानकारी के लिए कहां करें संपर्क :

योजना की अधिक जानकारी के लिए के लिए आप कृषि विपणन विभाग से संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा आप जिला स्तर पर नियुक्त डीआरपी से भी इस योजना की जानकारी ले सकते हैं।