Yatra Listing : दुनिया घुमाने वाली कंपनी ने घरेलू मार्केट में कराया घाटा 12% डिस्काउंट पर शेयरों की एंट्री.

Yatra Listing : टिकट और अकोमेडेशन बुकिंग की ऑनलाइन सर्विसेज मुहैया कराने वाली यात्रा ऑनलाइन (Yatra Online) के शेयरों की आज घरेलू मार्केट में फीकी एंट्री हुई। खुदरा निवेशकों के दम पर यह इश्यू डेढ़ गुना से अधिक भरा था। खुदरा निवेशकों का हिस्सा तो दो गुना से अधिक भरा था। आईपीओ निवेशकों को इसके शेयर 142 रुपये के भाव पर जारी हुए हैं। आज बीएसई पर इसकी 130 रुपये पर एंट्री हुई है यानी कि आईपीओ निवेशकों को कोई लिस्टिंग गेन (Yatra Listing Gain) नहीं मिला बल्कि आईपीओ निवेशकों की पूंजी लिस्टिंग पर 11.56 फीसदी घट गई। लिस्टिंग के बाद शेयर रिकवर हो रहे हैं हैं और फिलहाल 136.95 रुपये के भाव (Yatra Share Price) पर हैं यानी कि आईपीओ निवेशक अब 3.55 फीसदी घाटे में हैं।
Yatra Online IPO को कैसा मिला था रिस्पांस

यात्रा का 775 करोड़ रुपये का आईपीओ 15-20 सितंबर के बीच सब्सक्रिप्शन के लिए खुला था। यह आईपीओ ओवरसब्सक्राइब तो हो गया था लेकिन हर कैटेगरी के निवेशकों का हिस्सा पूरा नहीं भरा था। ओवरऑल यह इश्यू 1.66 गुना सब्सक्राइब हुआ था जिसमें क्वालिफाईड इंस्टीट्यूशनल बायर्स का हिस्सा 2.10 गुना, नॉन-इंस्टीट्यूशनल इनवेस्टर्स (NII) का हिस्सा 0.43 गुना और खुदरा निवेशकों का हिस्सा 2.19 गुना भरा था।
इस आईपीओ के तहत 1 रुपये की फेस वैल्यू वाले 4,23,94,366 नए शेयर जारी हुए हैं और 173 करोड़ रुपये के शेयरों की ऑफर फॉर सेल (OFS) विंडो के तहत बिक्री हुई है। ऑफर फॉर सेल के जरिए हासिल पैसे जिसने शेयर बेचे हैं, उन्हें मिलेंगे। वहीं नए शेयरों के जरिए जुटाए गए पैसे ही कंपनी को मिलेंगे जो रणनीतिक निवेश, अधिग्रहण और इनऑर्गेनिक ग्रोथ के साथ ग्राहकों को जोड़ने और उन्हें बनाए रखने, तकनीक और अन्य ऑर्गेनिक ग्रोथ इनीशिएटिव्स में होगा। इसके अलावा इन पैसों का इस्तेमाल आम कॉरपोरेट उद्देश्यों में होगा।

यह भी पढ़े   Google Pay ने यूजर्स के लिए शुरू की UPI Lite सर्विस, बिना पिन इंटर किए ही कर सकेंगे पेमेंट.
Yatra का कारोबार कैसा है

2005 में बनी यह कंपनी देशी-विदेशी ग्राहकों को यात्रा से जुड़ी हर जानकारी जैसे कि प्राइस, अवेलिबिलिटी के साथ-साथ बुकिंग सुविधा मुहैया कराती है। इसके जरिए फ्लाईट के साथ-साथ रेल, बस, कैब की बुकिंग कर सकते हैं। साथ ही होटल, होमस्टे इत्यादि की भी बुकिंग होती है। वित्त वर्ष 2023 के आंकड़ों के मुताबिक इसके नेटवर्क में देश के 1490 शहरों और नगरों में 1,05,600 होटल और दुनिया भर में 20 लाख से अधिक होटल हैं। डोमेस्टिक होटल के लिए यह देश का सबसे बड़ा प्लेटफॉर्म है। हाल ही में इसने कॉरपोरेट सर्विसेज को विस्तार करते हुए फ्रेट फारवर्डिंग बिजनेस यात्रा फ्रेट लॉन्च किया है।

वित्त वर्ष 2023 के आंकड़ों के मुताबिक कंपनी के पास 813 से अधिक कॉर्पोरेट ग्राहक और 49,800 से अधिक पंजीकृत SME ग्राहक हैं। ग्रॉस बुकिंग रेवेन्यू के मामले में यह देश की तीसरी सबसे बड़ी कंज्यूमर ऑनलाइन ट्रैवल कंपनी (OTC) है। इसके अलावा 21,05,600 टाई-अप्स के साथ इसके पास होटल और अकोमेडेशन को लेकर सबसे अधिक साझेदारिया है। अब इसके वित्तीय सेहत की बात करें तो यह लगातार बेहतर हो रही है। वित्त वर्ष 2021 में इसे 118.86 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ था जो अगले वित्त वर्ष घटकर 30.79 करोड़ रुपये पर आ गया। फिर अगले ही वित्त वर्ष 2023 में इसने 7.63 करोड़ रुपये का शुद्ध मुनाफा हासिल किया।