Bihar Teacher Recruitment 2023 : TRE में NIOS DElEd अभ्यर्थियों का क्या होगा, बीपीएससी ने किया साफ.

Bihar Teacher Recruitment 2023 : बिहार शिक्षक भर्ती में 18 माह के एनआईओएस डीएलएड डिग्री धारकों का क्या होगा, बिहार लोक सेवा आयोग ने इस पर संशय दूर कर दिया है। बीपीएससी ने कहा है कि माननीय सर्वोच्च न्यायालय, दिल्ली द्वारा पारित न्यायादेश के आलोक में डीएलएड की डिग्री मान्य है। अप्रशिक्षित प्रारंभिक शिक्षक जो दिनांक 10 अगस्त 2017 के पूर्व से कार्यरत है उनकी 18 माह की डीएलएड डिग्री मान्य होगी। आयोग ने कहा कि वर्ग 1- 5 से संबंधित अभ्यर्थियों को निदेश दिया जाता है कि कंडिका 07 में वर्णित सर्वोच्च न्यायालय द्वारा पारित आदेश पर सहमति व्यक्त करते हुए एडमिट कार्ड डाउनलोड करने संबंधी प्रक्रिया करेंगे।

पहले चरण की शिक्षक भर्ती में चयनित टीचर भी सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद डरे हुए हैं। बताया जा रहा है कि इस मुद्दे पर शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव के के पाठक ने कहा है कि जब तक सुप्रीम कोर्ट का फैसला आया तब तक पहले चरण की शिक्षक भर्ती का अपॉइंटमेंट हो गया था। बीपीएएसी से नवनियुक्त शिक्षकों में ऐसे शिक्षकों की संख्या प्राइमरी में काफी हैं, जो 18 महीने के डीएलएड पर नियुक्त हुए हैं। इनमें सरकारी नियोजित शिक्षकों के साथ ही प्राइवेट स्कूल के शिक्षक भी हैं, जो इसी डिग्री के आधार पर परीक्षा में बैठे थे।

गौरतलब है कि 28 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट ने महत्वपूर्ण फैसला देते हुए कहा था कि राष्ट्रीय मुक्त विद्यालय शिक्षा संस्थान (एनआईओएस) से 18 महीने का डीएलएड डिप्लोमा पाठ्यक्रम 2 साल के डिप्लोमा के बराबर नहीं है। शीर्ष अदालत ने कहा कि सभी तथ्यों से जाहिर होता है कि एनआईओएस से 18 माह डीएलएड डिप्लोमा को राष्ट्रीय शिक्षक शिक्षा परिषद (एनसीटीई) ने शिक्षक भर्ती के लिए योग्यता के रूप में मान्यता नहीं दी है। कोर्ट इस फैसले से एनआईओएस से 18 माह का डीएलएड डिप्लोमा धारक नई शिक्षक भर्ती प्रक्रिया में शामिल नहीं हो सकते।

यह भी पढ़े   IGNOU June TEE 2023 : इग्नू जून टीईई का फाइनल डेटशीट जारी! 1 जून से 6 जुलाई तक होगी परीक्षा, ऐसे करें डाउनलोड.

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बहुत से अभ्यर्थी बीपीएससी शिक्षक भर्ती (पहला चरण) में चयनित एनआईओएस डीएलएड डिप्लोमा धारी शिक्षकों को हटाने के लिए गुरुवार को आग्रह करने विभाग पहुंचे। उन्होंने इस बाबत सुप्रीम कोर्ट के आदेश का हवाला देते हुए एक प्रार्थना पत्र भी सौंपा।