Career Options after BA : शान से जिएंगे जिंदगी कर लें ये कोर्स हर महीने अकाउंट में आएंगे लाखों रुपये.

Career Options after BA : 12वीं के बाद स्टूडेंट्स के सामने करियर ऑप्शंस की लाइन लग जाती है. 12वीं किसी भी स्ट्रीम से की हो, उसके बाद ग्रेजुएशन के लिए सही कोर्स चुनना बहुत मुश्किल होता है. कोशिश यही करनी चाहिए कि आप जिस फील्ड में नौकरी करना चाहते हैं, उससे जुड़ा कोई कोेर्स करें. अगर आपने ग्रेजुएशन में बीए किया है तो उसके बाद कुछ खास कोर्स की पढ़ाई करके बेहरतरीन पैकेज वाली नौकरी हासिल कर सकते हैं (High Salary Jobs).

Business Analyst Career Path: बिजनेस एनालिस्ट देश के सबसे बेहतरीन करियर ऑप्शंस में से एक है. ये पेशेवर समस्याओं को एनालाइज कर उनका प्रैक्टिकल सॉल्यूशन निकालते हैं. किसी भी कंपनी की ग्रोथ में इनकी भूमिका अहम होती है. ये कंपनी के फ्यूचर को ध्यान में रखते हुए सही फैसले लेते हैं. इसके लिए वह पिछले कुछ सालों में लिए गए फैसलों, परफॉर्मेंस और रिजल्ट के डेटा का इस्तेमाल करते हैं. बिजनेस एनालिस्ट का शुरुआती पैकेज ही लाखों में होता है (Business Analyst Salary).

Data Scientist Salary: डेटा साइंस एक उभरता हुआ करियर ऑप्शन है. ज्यादातर लोगों को लगता है कि डेटा साइंटिस्ट बनने के लिए साइंस स्ट्रीम से पासआउट होना जरूरी है, जबकि ऐसा है नहीं. आप बीए के बाद डेटा साइंस से जुड़ा कोर्स करके इस क्षेत्र में करियर बना सकते हैं. डेटा साइंस में सिस्टम, एल्गोरिदम और साइंटिफिक मेथड्स का इस्तेमाल करके अनस्ट्रक्चर्ड और स्ट्रक्चर्ड डेटा से इनसाइट्स निकालने होते हैं. कुछ सालों के अनुभव के बाद आसानी से 60-70 लाख रुपये कमा सकते हैं.

Career in Law: देश में वकीलों की डिमांड बढ़ती जा रही है. वकील कई तरह के होते हैं- क्रिमिनल लॉयर, कॉरपोरेट लॉयर, फैमिली एंड रिलेशनशिप लॉयर आदि. वकील बनने के लिए एलएलबी करना जरूरी है. आज-कल एलएलबी और एलएलएम के कंबाइंड यानी इंटीग्रेटेड कोर्स भी चलन में हैं. अच्छे संस्थान से एलएलबी करके आप चाहें तो लॉ की किसी एक स्पेसिफिक फील्ड में सर्टिफिकेट कोर्स भी कर सकते हैं. एक बार नाम बन जाने के बाद हर महीने लाखों रुपये आसानी से कमा सकते हैं.

यह भी पढ़े   Government Teacher Job : 2 लाख शिक्षकों की बहाली जल्द, ये है सरकार का नया प्लान!

Assistant Professor Salary: असिस्टेंट प्रोफेसर को 7वें वेतन आयोग के हिसाब से सैलरी दी जाती है (7th Pay Commission). असिस्टेंट प्रोफेसर बनने के लिए बीए के बाद संबंधित विषय में मास्टर्स कर लें (How to Become Assistant Professor). इसके बाद नेट या जेआरएफ क्लियर करके किसी भी यूनिवर्सिटी या कॉलेज में असिस्टेंट प्रोफेसर के तौर पर नौकरी कर सकते हैं. इसके लिए पीएचडी करना अनिवार्य नहीं है.