Bihar Liquor Ban : बिहार में शराबबंदी पर बड़ा फैसला, बताया कब शुरू होगा शराब.

बिहार में बीते 6 साल से अधिक समय से लगातार शराबबंदी जारी है। ऐसे में बहुत सारे लोग शराब को दोबारा शुरू करने की मांग कर रहे हैं। कई विधायकों और बिहार के जाने-माने नेताओं ने भी इस शराब को दोबारा शुरू करने की मांग की है। कई लोग इस पर दलील देते हैं कि शराबबंदी होने के कारण लोग जहरीले शराब पीते हैं जिनके कारण उनकी मृत्यु हो जाती है। तो कई लोग यह दलील देते हैं कि शराबबंदी होने से राज्य के राजस्व में काफी नुकसान हो रहा है। इसी बीच नीतीश सरकार ने शराबबंदी पर एक नया सर्वे जारी कर दिया है। जिसके अनुसार बिहार में कितने लोग शराब बंदी को दोबारा शुरू करवाना चाहते हैं और कितने लोग उसे बंद ही रखना चाहते हैं इसको पूरी रिपोर्ट आ गई है।

शराबबंदी पर नया सर्वे सामने आ गया है। सर्वे में खुलासा हुआ है कि बिहार में 96 फ़ीसदी लोगों ने शराब पीना छोड़ दिया है। शराब बंदी के पक्ष में 96 प्रतिशत लोग हैं। जिसमें 98% पुरुष एवं 99% महिलाएं शामिल है। बावजूद इसके बिहार में आए दिन जहरीले शराब की कोई ना कोई मामला सामने आता है एवं पुलिस भी लगातार अवैध शराब को जप्त करने में लगी हुई है।

 

हमारे ग्रुप से जुड़ने के लिए निचे लिंक पर क्लिक करें

व्हाट्सप्प ग्रुप टेलीग्राम ग्रुप
हमारे ग्रुप से जुड़ने के लिए ऊपर लिंक पर क्लिक करें

 

बिहार के चाणक्य लॉ विश्वविद्यालय और जीविका के सर्वे में सरकार ने बड़ा खुलासा किया है। इस सर्वे में बताया गया है कि बिहार के 99% महिलाएं शराब बंदी के पक्ष में है 92% में है। उत्पाद और निबंधन विभाग के तत्वावधान में शराबबंदी के 7 वर्षों के प्रभाव का पूरे प्रदेश में विस्तार से सर्वे किया गया हैं। साथ ही इस को लेकर आम आदमी की प्रतिक्रिया रिकॉर्ड की गई है।

यह भी पढ़े   Bihar Liquor Ban : बिहार के शराबियों के लिए बड़ी खुशखबरी, सुप्रीम कोर्ट ने बिहार सरकार को दिया आदेश.

सर्वे का नतीजा बता रहा है कि बिहार में आम लोगों ने शराबबंदी को ना केवल सकारात्मक रूप में लिया है बल्कि इसका समर्थन कर रहे हैं। जीविका के मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी राहुल कुमार, उत्पाद आयुक्त सह निबंधन महानिरीक्षक बी. कार्तिकेय धनजी, चाणक्य लॉ विश्वविद्यालय के डीन एस.पी. सिंह, मद्य निषेध एवं उत्पाद उपायुक्त कृष्ण कुमार ने सर्वेक्षण रिपोर्ट जारी किया।

इस साल सर्वे का दायरा और विस्तारित किया गया था। गत वर्ष केवल चार हजार लोगों से बातचीत के आधार पर सैम्पल सर्वे किया गया था। इस साल 10 लाख 22 हजार 467 लोगों से बातचीत करके रिपोर्ट तैयार की गयी है। सर्वेक्षण के लिए राज्य के सभी जिलों और सभी प्रखंडों को आधार बनाया गया। इसके लिए 1.15 लाख जीविका समूह में से 10 हजार लोगों का चयन किया गया था। इन लोगों ने 98 फीसदी पंचायतों और 90 फीसदी गांवों में लोगों के बीच जाकर सर्वे किया। इस दौरान उन्होंने 7968 पंचायतों लगभग 33 हजार गांवों के लोगों से संपर्क किया।

सर्वेक्षण रिपोर्ट की सबसे अहम बात तो यह है कि पिछले सात वर्षों में 1 करोड़ 82 लाख लोगों ने शराब पीना छोड़ा। ये पहले शराब का सेवन करते थे, लेकिन शराबबंदी कानून के लागू होने के बाद उन्होंने शराब छोड़ दी। यही नहीं सर्वेक्षण में यह बात भी सामने आयी कि जो लोग शराबबंदी के पहले शराब पीते थे, उनमें से 96 फीसदी लोगों ने बाद में शराब छोड़ दी। ये अब शराब का सेवन नहीं करते हैं।

जीविका के मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी ने बताया कि शराबबंदी कानून को लेकर हर स्तर पर सख्ती भी बरती जा रही है। इसके लिए सीमावर्ती क्षेत्रों में सघन चौकसी की जा रही है। पहले केवल 15 चेकपोस्ट थे, आज 80 हो गए हैं। इन चेक पोस्टों के माध्यम से सभी जिलों की सड़कों की निगरानी की जा रही है। शराब के अवैध प्रवेश को लेकर हम पूरे प्रदेश में कड़ी निगरानी कर रहे हैं।

यह भी पढ़े   8th Pay Commission : देशभर में तेज हुई आठवें वेतन आयोग की मांग! इस साल हो सकती हैं लागू.

शराबबंदी के बमुश्किल एक साल बाद, 2017 में तीन डॉक्टरों की एक टीम द्वारा किए गए एक अध्ययन से पता चला था। कि लगभग 64% आदतन शराब पीने वालों ने प्रतिबंध के बाद शराब लेना बंद कर दिया था, जबकि 25% से अधिक ताड़ी जैसे अन्य पदार्थों का सेवन करने लगे थे। , गांजा (मारिजुआना), चरस आदि, जबकि कई अभी भी अवैध रूप से आस-पास के इलाके या पड़ोसी जिलों से शराब प्राप्त कर रहे थे।आपको बता दें नीतीश कुमार ने 2015 के विधानसभा चुनावों से पहले महिलाओं के एक समूह से किए गए वादे का हवाला देते हुए अप्रैल 2016 में राज्य में शराबबंदी लागू कर दी थी।

 

 

हमारे ग्रुप से जुड़ने के लिए निचे लिंक पर क्लिक करें

व्हाट्सप्प ग्रुप टेलीग्राम ग्रुप
हमारे ग्रुप से जुड़ने के लिए ऊपर लिंक पर क्लिक करें