Model Anganwadi Center: बिहार में प्ले स्कूल की तर्ज पर बनेगा आंगनबाड़ी केंद्र, बिहार सरकार का बड़ा ऐलान

पहले चरण में पायलट प्रोजेक्ट के तहत पटना, गया, भोजपुर, बेगूसराय एवं किशनगंज में काम होगा. इन जिलों में 30-30 केंद्रों को विकसित किया जायेगा, जिसमें बच्चों की उपलब्धता और उनकी बढ़ती रूचि का आकलन सेविका-सहायिका करेंगी.

राज्य में आंगनबाड़ी केंद्रों के प्रति बच्चों का लगाम बढ़ाने के लिये इन्हें प्ले स्कूल की तर्ज पर विकसित करने का निर्णय लिया गया है. पहले चरण में पायलट प्रोजेक्ट के तहत पटना, गया, भोजपुर, बेगूसराय एवं किशनगंज में काम होगा. इन जिलों में 30-30 केंद्रों को विकसित किया जायेगा, जिसमें बच्चों की उपलब्धता और उनकी बढ़ती रूचि का आकलन सेविका-सहायिका करेंगी. बच्चों की संख्या बढ़ने के बाद पायलट प्रोजेक्ट को अन्य जिलों में भी शुरू किया जायेगा.

अधिकारी दूसरे राज्यों के आंगनबाड़ी केंद्रों से भी जुटा रहे हैं रिपोर्ट

समाज कल्याण विभाग के अधिकारी कुछ माह पूर्व दूसरे राज्यों में आंगनबाड़ी केंद्रों को देखने गये थे. जिसके बाद उन्होंने अपनी रिपोर्ट विभाग को सौंपा था. इसी रिपोर्ट के आधार पर यह निर्णय लिया गया है. रिपोर्ट के मुताबिक हर केंद्र को प्ले स्कूल की तर्ज पर साफ-सुथरा रखा जायेगा. पोषाहार के लिये अलग से जगह चिन्हित होंगे. जहां बच्चे आराम से बैठकर भोजन कर सकें.

शौचालय व पानी की शुद्धता का रखा जायेगा पूरा ध्यान

आंगनबाड़ी केंद्रों को विकसित करने के दौरान बच्चों के लिये शौचालय और पानी की शुद्धता का पूरा ख्यान रखा जायेगा. बच्चों को साफ पानी मिले. इसके लिये हर घर नल का जल योजना से जोड़ा जायेगा और पानी की शुद्धता की जांच हर तीन माह पर होगी.

यह भी पढ़े   7th Pay Commission : कर्मचारियों की सैलरी, डीए और फिटमेंट फैक्टर में होगी बढ़ोतरी.

स्कूल की दीवारें होंगी रंगीन

आंगनबाड़ी केंद्रों की दीवारों को रंगीन किया जायेगा. जहां बच्चों के लिये उनकी रूचि के अनुसार फल-सब्जियों व जानवरों की तस्वीर बनायी जायेगी, ताकि बच्चों को पढ़ाने व पढ़ाने में दिक्कत नहीं हो.