Iskcon Sends 100 Crore Rupees : ISKCON ने मेनका गांधी को भेजा 100 करोड़ रुपये का मानहानि नोटिस गायों को कसाइयों को बेचने का लगाया था आरोप.

Iskcon Sends 100 Crore Rupees : इंटरनेशनल सोसाइटी फॉर कृष्णा कॉन्शियसनेस (ISKCON) ने शुक्रवार को कहा कि उसने उसकी गौशालाओं में गायों के रखरखाव को लेकर इस धार्मिक संगठन पर सवाल उठाने के लिए भारतीय जनता पार्टी (BJP) की सांसद मेनका गांधी (Maneka Gandhi) को 100 करोड़ रुपये का मानहानि नोटिस भेजा है। पूर्व केंद्रीय मंत्री का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था, जिसमें उन्हें इस्कॉन के खिलाफ कई गंभीर आरोप लगाते हुए सुना जा सकता है। वायरल वीडियो में मेनका गांधी यह आरोप लगाते हुए सुनाई दे रही हैं कि इस्कॉन देश का सबसे बड़ा धोखेबाज है जो अपनी गौशालाओं से गायों को कसाइयों को बेच देता है।

हालांकि, इस आरोप का इस्कॉन ने जोरदार खंडन किया है। बीजेपी सांसद के आरोपों को निराधार और झूठा करार दिया है। पीटीआई के मुताबिक इस्कॉन के उपाध्यक्ष राधारमण दास ने शुक्रवार को एक बयान में कहा, “आज, हमने इस्कॉन के खिलाफ पूरी तरह से निराधार आरोप लगाने के लिए मेनका गांधी को 100 करोड़ रुपये का मानहानि नोटिस भेजा है।”

उन्होंने इसे ‘दुर्भावनापूर्ण आरोप’ करार देते हुए कहा कि इस्कॉन के श्रद्धालु, समर्थक और शुभचिंतकों का विश्वव्यापी समुदाय इन आरोपों से बहुत व्यथित है। मेनका गांधी से उनकी टिप्पणी के लिए संपर्क करने की कोशिश की गई, लेकिन कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली।

बिना डेट वाले वीडियो में मेनका गांधी ने कहा कि “इस्कॉन गौशालाएं बनाता है और इसके लिए सरकार से विशाल जमीन के रूप में असीमित लाभ कमाता है।” पशु अधिकार कार्यकर्ता और बीजेपी सांसद गांधी ने वीडियो में कहा, “इस्कॉन अपनी सारी गाएं कसाइयों को बेच रहा है और उनके अलावा कोई और ऐसा नहीं करता है। वे वही हैं जो सड़क पर ‘हरे राम हरे कृष्ण’ का जाप करते हुए घूमते हैं और कहते हैं कि उनका पूरा जीवन दूध पर निर्भर है।”

यह भी पढ़े   Edible Oil : जानिए कितने घटे रेट सरसों सहित सभी तरह के खाने वाले तेल हुए सस्ते.

गांधी ने आरोप लगाया, “मैंने हाल ही में (आंध्र प्रदेश में) उनकी अनंतपुर गौशाला का दौरा किया और वहां एक भी गाय अच्छी हालत में नहीं मिली… गौशाला में कोई बछड़ा नहीं था, जिसका मतलब है कि सभी को बेच दिया गया है।”

इस्कॉन ने कहा कि उसने दुनिया के कई हिस्सों में गाय संरक्षण का बीड़ा उठाया है, जहां गोमांस एक मुख्य आहार है। इस्कॉन ने एक बयान में कहा, “भारत के भीतर, इस्कॉन 60 से अधिक गौशालाएं चलाता है, जो सैकड़ों पवित्र गायों और बैलों की रक्षा करती हैं और उनके पूरे जीवनकाल के लिए देखभाल प्रदान करती हैं। वर्तमान में इस्कॉन की गौशालाओं में जिन गायों की सेवा की जा रही है उनमें से कई को लावारिस, घायल पाए जाने, या वध किए जाने से बचाए जाने के बाद हमारे पास लाया गया था।”