Unclaimed Bank FD : लोग अपने बैंक एफडी को भूल जाते हैं जिससे पैसा अनक्लेम्ड रह जाता है ऐसे पता लगा सकते हैं अपने अनक्लेम्ड FD के बारे में.

Unclaimed Bank FD : बैंक फिक्स्ड डिपॉजिट (Bank Fixed Deposit) लंबे समय से लोगों के पैसा रखने का सुरक्षित और आसान माध्यम रहा है। बैंकों में फिक्स्ड डिपॉजिट में काफी पैसे पड़े हैं, जिनका कोई दावेदार नहीं है। आखिर, इसकी वजह क्या है, लंबे समय तक एफडी अमाउंट पर दावा पेश नहीं करने पर क्या होता है और इस अमाउंट पर दावेदारी पेश करने का क्या तरीका है? आइए इन सवालों के जवाब जानने की कोशिश करते हैं। अगर एफडी की मैच्योरिटी के बाद भी डिपॉजिटर इस पैसे को नहीं निकालता है तो इसे अनक्लेम्ड मान लिया जाता है। इसलिए अगर आपने किसी बैंक में एफडी किया है तो मैच्योरिटी के बाद उस पैसे को निकाल लेना जरूरी है। अगर आप उस पैसे को नहीं निकालना चाहते हैं तो आप बैंक को इस बारे में बता सकते हैं। बैंक उस FD को रिन्यू कर देगा।

अनक्लेम्ड एफडी बढ़ने की कई वजहें

एफडी पर दावेदारी पेश नहीं होने की कई वजहें हो सकती हैं। कई बार डिपॉजिटर की मौत इसकी वजह होती है। दरअसल, डिपॉजिटर की बीवी और बच्चों को उसके एफडी के बारे में पता नहीं होता। इससे उसके निधन के बाद यह पैसा अनक्लेम्ड रह जाता है। कुछ मामलों में डिपॉजिटर का ट्रांसफर इसकी वजह होती है। प्राइवेट या सरकारी नौकरी करने वाले लोगों का तबादला एक शहर से दूसरे शहर होता रहता है। कुछ मामलों में देखा गया है कि डिपॉजिटर अपने एफडी की मैच्योरिटी डेट भूल जाता है। इस वजह से अकाउंट में उसका पैसा पड़ा रहता है।
एफडी कब अनक्लेम्ड हो जाता है?

यह भी पढ़े   Sukanya Samriddhi Yojana : सुकन्या समृद्धि योजना में मैच्योरिटी से पहले निकाल जा सकता है पैसा, जानिए क्या है तरीका.

अगर बैंक के फिक्स्ड डिपॉजिट अकाउंट के मैच्योर होने के 10 साल तक दावेदारी पेश नहीं की जाती है तो बैंकों को इस पैसे को डिपॉजिटर एजुकेशन एंड अवेयरनेस फंड (DEAF) में ट्रांसफर करने का अधिकार मिल जाता है। अगर आपने पैसा एफडी में रखा था और उसे भूल गए हैं तो इसके बारे में पता लगाना मुश्किल नहीं है। कई बार एफडी अकाउंट के मैच्योर होने के कई साल बाद उसका सर्टिफिकेट डिपॉजिटर को घर में कहीं रखा मिल जाता है। फिर उसे इस एफडी का ख्याल आता है।

कैसे पेश करें दावेदारी?

अगर आपको अपने किसी पुराने एफडी का पता चलता है तो आप अपने पैसे पर आसानी से दावेदारी पेश कर सकते हैं। इसके लिए आपको अपने बैंक की ब्रांच जाना होगा। स्टाफ को एफडी की डिटेल देनी होगी। अगर आप सिर्फ अपनी पर्सनल डिटेल बताते हैं तो बैंक का एंप्लॉयीज आपकी एफडी के बारे में बता देगा। इस तरह आपको अपना पैसा वापस मिल जाएगा।

मुश्किल नहीं है दावेदारी पेश करना

अगर आपका ट्रांसफर किसी दूसरे शहर में हो गया है और आपके लिए उस शहर जाना मुश्किल है जहां आपने एफडी कराया था तो आपको UDGAM की वेबसाइट से मदद मिल सकती है। RBI ने इसके लिए एक अलग पोर्टल लॉन्च किया है। इसका नाम है Unclaimed Deposits Gateway to Access InforMation (UDGAM)। इस वेबसाइट पर सभी तरह के अनक्लेम्ड डिपॉजिट की डिटेल होती है। आप अपना नाम, पैन, अकाउंट नंबर और एड्रेस डालकर अपने एफडी के बारे में पता कर सकते हैं। एक बार एफडी की डिटेल मिल जाने पर संबंधित बैंक शाखा में जाकर अपने पैसे आप निकाल सकते हैं।