Axis Mf Launches : Axis MF ने लॉन्च किया मैन्युफैक्चरिंग फंड क्या आपको इसमें निवेश करना चाहिए?

Axis Mf Launches : Axis Mutual Fund मैन्युफैक्चरिंग फंड लॉन्च किया है। यह एक थिमैटिक फंड है। म्यूचुअल फंडों के लिए मैन्युफैक्चरिंग अपेक्षाकृत एक नई कैटेगरी है। इस थीम पर पहले से सिर्फ चार एक्टिव स्कीम मौजूद हैं। यह ओपन-एंडेड इक्विटी स्कीम है। इसका नाम ‘एक्सिस इंडिया मैन्युफैक्चरिंग फंड’ है। इसे ऐसे वक्त लॉन्च किया गया है, जब इंडिया में सरकार ने मैन्युफैक्चरिंग पर फोकस बढ़ाया है। सरकार ने कुछ साल पहले ‘मेक इन इंडिया’ शुरू किया था। 
इसके फायदे अब दिखने लगे हैं। एक्सिस एएमसी के मैनेजिंग डायरेक्टर ने कहा कि सरकार ने कई रिफॉर्म्स भी किए हैं। इससे मैन्युफैक्चरिंग को बढ़ावा मिला है। एक्सिस का यह फंड बॉटम-अप एप्रोच रखेगा। यह मल्टी-कैप स्टॉक सेलेक्शन स्ट्रेटेजी का इस्तेमाल करेगा। इस स्कीम में 1 दिसंबर से 15 दिसंबर के बीच निवेश किया जा सकता है।
ये हैं स्कीम के फंड मैनेजर्स

एक्सिस इंडिया मैन्युफैक्चरिंग फंड के फंड मैनेजर्स श्रेयांस देवलकर और नितिन अरोड़ा हैं। देवलकर अभी एक्सिस एमएफ में इक्विटीज के हेड हैं। वह 13 स्कीमों का प्रबंधन कर रहे हैं। इनमें एक्सिस ब्लूचिप फंड, एक्सिस फ्लेक्सी कैप फंड, एक्सिस मिडकैप फंड और एक्सिस स्मॉलकैप फंड शामिल हैं। अरोड़ा एक्सिस वैल्यू फंड का प्रबंधन करते हैं। एक्सिस एमएफ ने कहा है कि इंडिया ऐसे फ्यूचर की तरफ बढ़ रहा है, जिसमें सस्टेनेबल डेवलपमेंट के मकसद से न्यू एज टेक्नोलॉजी अपनाने पर जोर दिया जा रहा है।

तीन फंडों का औसत रिटर्न 23 फीसदी

एक्सिस एएमसी के चीफ इनवेस्टमेंट अफसर आशीष गुप्ता ने कहा, “इंडिया तेजी से बदल रहा है। इसमें सरकार की पॉलिसी का हाथ है। ग्लोबल कंपनियों के मुकाबले कॉस्ट कॉम्पटिटिवनेस में भी सुधार आया है।” यह फंड इकोनॉमी के तीन सेगमेंट की कंपनियों की पहचान करने की कोशिश करेगा। इनमें इनवेस्टमेंट (कैपेक्स साइकिल), कंजम्प्शन और नेट एक्सपोर्ट शामिल हैं। पहले से इस थीम पर मौजूद चार स्कीमों में सिर्फ दो तीन साल से ज्यादा पुरानी हैं। ये हैं आदित्य बिड़ला सन लाइफ मैन्युफैक्चरिंग इक्विटी और ICICI Prudential Manufacturing। एक साल से ज्यादा पुराने तीन फंडों का 12 महीनों में औसत रिटर्न 23.22 फीसदी रहा है।

यह भी पढ़े   Ott Releases This Week : इस हफ्ते दमदार एक्शन से मचने वाला है ओटीटी पर धमाल रिलीज होंगी ये 8 फिल्में और वेब सीरीज.
क्या आपको इनवेस्ट करना चाहिए?

म्यूचुअल फंड्स एक्सपर्ट्स घरेलू मैन्युफैक्चरिंग थीम को लेकर उत्साहित हैं। Axiom Financial Services के चीफ एग्जिक्यूटिव अफसर दीपक छाबड़िया ने कहा कि इंडिया में मैन्युफैक्चरिंग में गतिविधियां बढ़ रही है। चीन से कई कंपनियां इंडिया शिफ्ट होती दिख रही हैं। यह प्रोसेस आगे भी जारी रहेगा। लेकिन, इनवेस्टर्स को एक्सिस के इस नए फंड में निवेश से जुड़े रिस्क को भी समझना होगा। थीमैटिक या सेक्टोरल फंड में निवेश में काफी रिस्क होता है। इसलिए इनमें फायदा भी ज्यादा होने की संभावना होती है।

गेनिंग ग्राउंड इनवेस्टमेंट सर्विसेज के फाउंडर रवि कुमार टीवी ने बताया कि एक्सिस म्यूचुअल फंड की पहचान क्वालिटी और इनवेस्टिंग की ग्रोथ स्टाइल की वजह से रही है। लेकिन, यह स्टाइल पिछले कुछ समय से बहुत इफेक्टिव नहीं रहा है। इसकी वजह ज्यादा इंटरेस्ट रेट है। अगर इनफ्लेशन बढ़ता है और लेबर और लैंड की कॉस्ट ज्यादा रहती है तो इस स्टाइल को मुश्किल आ सकती है।

छाबड़िया ने कहा, “एक्सिस म्यूचुअल फंड के दूसरे फंड्स का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा है। मैन्युफैक्चरिंग की थीम अच्छी हो सकती है, लेकिन हमें यह नहीं पता कि इसका प्रदर्शन कैसा रहेगा क्योंकि एक्सिस पिछले कुछ समय से अच्छे प्रदर्शन के लिहाज से संघर्ष करता दिख रहा है। इनवेस्टर्स एक्सिस के कई फंडों के प्रदर्शन में सुधार का इंतजार कर रहे हैं।”

रिटेल इनवेस्टर्स इस स्कीम से दूरी बरत सकते हैं। अच्छे ट्रैक रिकॉर्ड वाले मौजूदा फंड्स में निवेश करना सही रहेगा। इसके अलावा मैन्युफैक्चरिंग, कंजम्प्शन और कैपिटल गुड्स जैसी थीम पर पहले से म्यूचुअल फंड हाउसेज का फोकस रहा है। डायवर्सिफायड फंडों का निवेश पहले से इस थीम में रहा है।