Business Idea : इस मेडिसिनल प्लांट की खेती से हो जाएंगे मालामाल जानिए कैसे करें शुरू.

Business Idea  : अगर आप बेरोजगारी के दौर से गुजर रहे हैं और मोटी कमाई करने के तलाश में हैं तो हम आपको एक ऐसा आइडिया दे रहे हैं, जहां बेहद कम लागत से अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं। इस बिजनेस में सिर्फ आपको एक बार 15,000 रुपये लगाना है, इसके बाद आप 3 लाख रुपये तक की कमाई कर सकते हैं। इतना ही नहीं इस बिजनेस को शुरू करने के लिए केंद्र सरकार की तरफ से मदद भी मुहैया कराई जा रही है। हम बात कर रहे हैं तुलसी की खेती ( Basil Cultivation) के बारे में। बाजार में आजकल मेडिसिनल पौधे की जबरदस्त मांग है। इसके लिए आप कॉन्ट्रैक्ट पर खेत ले सकते हैं।

तुलसी की खेती मेडिसिनल प्लांट के तहत आती है। मेडिसिनल प्‍लांट (Medicinal Plant) की खेती के लिए न तो बड़े खेत की जरूरत है और न ही बहुत अधिक निवेश करने की। इस तरह की खेती के लिए अपना खेत होना भी जरूरी नहीं है। इसे आप कॉन्ट्रैक्ट पर भी ले सकते हैं, आजकल कई कंपनियां कॉन्ट्रैक्ट पर Medicinal Plant की खेती करा रही है। इनकी खेती शुरू करने के लिए आपको कुछ हजार रुपए ही खर्च करने की जरूरत है, लेकिन कमाई लाखों में होती है।

तीन महीने में तीन लाख की कमाई
आम तौर पर तुलसी को धार्मिक मामलों से जोड़कर देखा जाता है, लेकिन मेडिसिनल गुण वाली तुलसी की खेती से कमाई की जा सकती है। तुलसी के कई प्रकार होते हैं, जिनमें यूजीनोल ओर मिथाइल सिनामेट होता है। इसका इस्तेमाल से कैंसर जैसी गंभी बीमारियों की दवाएं बनाई जाती है। एक हेक्टेयर खेत में तुलसी उगाने में सिर्फ 15,000 रुपये का खर्च आता है, लेकिन तीन महीने बाद ही यह फसल तीन लाख रुपये तक फिर बिक जाती है।

यह भी पढ़े   Business Idea : इलेक्ट्रिक व्हीकल चार्जिंग स्टेशन से होगी बंपर कमाई जानिए कैसे करें शुरू.

जानिए कैसे होती है तुलसी के पौधे की खेती

तुलसी की खेती के लिए बलुई दोमट मिट्टी सबसे ज्यादा बेहतर मानी जाती है। इसकी खेती के लिए सबसे पहले जून-जुलाई में बीजों के जरिए नर्सरी तैयार की जाती है। नर्सरी तैयार होने के बाद इसकी रोपाई की जाती है। रोपाई के दौरान लाइन से लाइन की दूरी 60 सेमी. और पौधे से पौधे की दूरी 30 सेमी. रखी जाती है। 100 दिनों के भीतर तैयार हो जाता है, जिसके बाद कटाई की प्रकिया शुरू कर दी जाती है।

इन कंपनियों के साथ जुड़कर कर सकते हैं कमाई

तुलसी की खेती भी पतंजलि, डाबर, वैद्यनाथ आदि आयुर्वेद दवाएं बनाने वाली कंपनियां कांट्रेक्ट फार्मिंग करा रही है। जो फसल को अपने माध्यम से ही खरीदती है। तुलसी के बीज और तेल का बड़ा बाजार है। हर दिन नए रेट पर तेल और तुलसी के बीज बेचे जाते हैं।