Indore Landlord : इंदौर के मकान मालिक की ऐसी क्या मजबूरी? करोड़ों की संपत्ति महज एक रुपए में दे दी.

Indore Landlord : आपने अपने पिता या दादा से ऐसी कहानी तो सुनी होगी। जब महज एक जमीन का टुकड़ा उन्हें हजारों रुपए में मिल रहा था और आज उसकी कीमत करोड़ों हो गई है। आज आपको उनके जमीन ना लेने का अफसोस तो होता ही होगा। जमीन के लिए तो कितने बवाल होते हैं, भाई-भाई के खिलाफ हो जाता है। वहीं इंदौर में एक मकान मालिक ऐसा है जिसे पैसों का कोई मोह ही नहीं है। मकान मालिक और किराएदार में अकसर आपने छत्तीस का आंकड़ा तो देखा ही होगा। जहां मकान मालिक अपने किराएदार को घर से बेघर करने के लिए कोशिशें करता रहता है। वहीं एक मकान मालिक ऐसा भी है जिसने अपने किराएदारों की किस्मत ही बदल दी।

पुश्तैनी जमीन दे दी किराएदारों को

इंदौर की गुप्ता फैमिली ने अपनी जमीन पर रह रहे चार परिवारों के नाम जमीन कर दी और वो भी बेहद कम कीमत पर। मालवा मिल स्क्वायर के वार्ड नंबर 47 में गुप्ता फैमिली का पुश्तैनी 200 साल पुराना घर है। इस घर में काफी सालों से चार परिवार रह रहे हैं। किराएदार अपनी माली हालत की वजह से काफी समय से किराया नहीं भर पा रहे थे। 1000 स्क्वायर फुट इस जमीन पर वो सिर्फ 250-300 स्क्वायर फुट में ही रह रहे थे। पिछले कुछ दिनों से हुई बारिश की वजह से घर का एक हिस्सा गिर गया। एक किराएदार का घर गिरने के बाद म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन ने उस प्लॉट के चारों घरों को खाली करने का नोटिस जारी कर दिया। चारों किराएदारों के पास इसके बाद कहीं जाने के लिए जगह नहीं बची। उनकी मदद के लिए तुरंत उनके मकान मालिक आगे आ गए।

यह भी पढ़े   Ntpc And Power Grid Hit All Time : NTPC और Power Grid के शेयरों ने बनाया रिकॉर्ड JSW Energy के स्टॉक में भी रही तेजी.

दादा-भाइयों के साथ रहते थे घर में

दिनेश गुप्ता ने बताया कि उन्होंने अपने बचपन में गरीबी देखी है। ऐसे में जानते हैं कि लोगों की जिंदगी को गरीबी कैसे प्रभावित करती है। दिनेश ने बताया कि 1970 में वो अपने दादा और 11 भाइयों के साथ इस पुश्तैनी घर में रहा करते थे। सभी भाइयों ने आपस में बातचीत की और उसके बाद फैसला लिया कि अगर उनके दादा का ये पुश्तैनी घर किसी जरूरतमंद के काम आएगा तो ज्यादा अच्छा होगा।

विधायक ने परिवार को किया सम्मानित

काउंसलर ने लोकल MLA महेंद्र हर्दिया को बताया कि लैंड लीज पर किराएदारों को महज एक रुपए में दे दी गई है। MLA ने एक प्रोग्राम ऑर्गेनाइज करके गुप्ता फैमिली को सम्मानित किया। गोविंद गुप्ता, विजय गुप्ता, सत्यनारायण गुप्ता ने इस कार्यक्रम में हिस्सा लिया और अपने 200 साल पुश्तैनी घर को किराएदारों को सौंप दिया। रंछोड़ सेठिया, रमेश वर्मा, सुनीता जेरावल और लीलाबाई को खुद लिखित में MLA ने 1000 स्क्वायर फुट प्लॉट का मालिकाना हक दिया।