Kgmu Chemotherapy : केजीएमयू में बिना जरूरत महिला मरीज की कर दी कीमोथेरेपी अब देना होगा इतना मुआवजा.

Kgmu Chemotherapy : यूपी के सबसे बड़े मेडिकल कॉलेज किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी से चौंकाने वाली खबर सामने आ रही है. यहां पर एक मरीज को बिना कैंसर ही कीमोथेरेपी देने का मामला सामने आया है, जिसके बाद लखीमपुर खीरी के कंज्यूमर कोर्ट ने प्रोफेसर को 4.5 लाख रुपये मरीज को 7 प्रतिशत ब्याज प्रतिवर्ष के साथ ही एडिशनल 50,000 कंपनसेशन देने के लिए कहा है.
कीमोथेरेपी की वजह से पीड़ित महिला मरीज के बाल चले गए. आंखों की रोशनी कमजोर हो गई और रोग प्रतिरोधक क्षमता भी कमजोर पड़ गई. इसके अलावा उसे विभिन्न प्रकार के स्वास्थ्य संबंधी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. इस पूरे मामले पर किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर की ओर से देर शाम स्पष्टीकरण भी जारी किया गया है.
डॉक्टर ने जारी किया बयान
केजीएमयू के प्रवक्ता डॉ. सुधीर सिंह ने बताया कि यह मामला रेडियोथेरेपी विभाग का है. मामला प्रोफेसर सीमा गुप्ता से जुड़ा हुआ है, उन्होंने इस पर अपना स्पष्टीकरण देते हुए बताया कि महिला मरीज को 29.12.2007 को प्रो. आनंद मिश्रा द्वारा रेफर किया गया था. रोगी स्तन के बार-बार होने वाले घातक फाइबोइड के लिए लुम्पेक्टोमी और सरल मास्टेक्टॉमी के बाद आगे के इलाज के लिए रेडियोथेरेपी विभाग ओपीडी में उनके पास आई थीं.
प्रोफेसर लेंगी कानूनी सलाह
रोग का फैलाव जानने के लिए रोगी की नियमित और अन्य विशिष्ट जांच की गई. जांच से फेफड़ों में मेटास्टेसिस का पता चला, जिसके लिए मरीज की कीमोथेरेपी की योजना बनाई गई थी. रोगी को कीमोथेरेपी का एक चक्र दिया गया. उसके बाद रोगी को आगे के प्रबंधन के लिए उचित अनुवर्ती तारीख पर आने की सलाह दी गई, लेकिन रोगी आगे इलाज के लिए नहीं आई. प्रो सीमा गुप्ता प्रकरण के दृष्टिगत कानूनी सलाह प्राप्त करेंगी.