Pet Crocodile Not Allowed Entry Into The Stadium : पालतू मगरमच्छ के साथ मैच देखने पहुंचा दर्शक स्टेडियम में नहीं मिली एंट्री.

Pet Crocodile Not Allowed Entry Into The Stadium : हमारे आस पास कई सारे ऐसे वाकये और घटनाएं होती हैं जिनको सुनकर अजीब भी लगता है और उस पर काफी हैरानी भी होती है। अब ऐसा ही एक वाकया एक बेसबॉल स्टेडियम के बाहर से भी सामने आया है। दरअसल एक दर्शक जो कि एक बेसबॉल मैच देखने गया था उसे वापस भेज दिया गया। दर्शक को वापस भेजने की वजह बेहद ही ज्यादा हैरान करने वाली है। CBS न्यूज की एक रिपोर्ट के मुताबिक व्यक्ति को इसलिए बेसबॉल मैच देखने के लिए मना कर दिया गया क्योंकि वह स्टेडियम अपने पालतू मगरमच्छ के साथ आया था।

मगरमच्छ के साथ मैच देखने पहुंचा यह दर्शक

जॉय हेनी नाम के इस दर्शक को फिलाडेल्फिया में एक बेसबॉल मैच का लुत्फ उठाना था। जिसके लिए वह स्टेडियम में अपने साथ पालतू मगरमच्छ को भी लेकर गया था। यह मैच सिटीजन्स बैंक पार्क में फिलाडेल्फिया फिलीज और पिट्सबर्ग पाइरेट्स टीमों के बीच होना था। हालांकि उस व्यक्ति को मगरमच्छ के साथ स्टेडियम में इंटर करने से रोक दिया गया।

पत्रकार ने देखा था मगरमच्छ

मैच के आयोजन वाली जगह पर हॉवर्ड एस्किन नाम के एक पत्रकार ने हेनी को वैली नाम के लिए साढ़े पांच फीट लंबे मगरमच्छ के साथ देखा। उन्होंने बताया कि पहले तो कुछ देर तक उनको भी अपने देखे हुए पर यकीन नहीं हुआ। 2022 में सीएनएन को दिए एक इंटरव्यू में उस मगरमच्छ के मालिक ने बताया कि जब से वह उनके साथ रह रहा है तब से ही उसने अभी तक किसी पर भी हमला नहीं किया है। मेरा मगरमच्छ गुस्सा नहीं दिखाता ना ही एग्रेसिव है। जिस दिन से उसे पालतू बनाया गया है तब से ही उसने ऐसा कुछ नहीं किया है। हम खुद भी नहीं समझ पाए हैं कि ऐसा क्यों है।

यह भी पढ़े   Shangri-La Valley : इस घाटी में जो गया कभी लौट कर नहीं आया आखिर क्या है भारत के शांगरी ला घाटी का रहस्य...

अकेलेपन में मगरमच्छ लगा लेता था गले

साल 2022 में CNN को दिए अपने इंटरव्यू में हेली ने कहा था कि जब उनको अकेलापन महसूस होता है तब उनका मगरमच्छ उनको गले भी लगा लेता है। उन्होंने कहा था कि मैं अकेला हो जाऊंगा और इस तरह की चीजें होंगी और ऐसा लगता है कि उसे इन चीजों का एहसास हो गया है और वह आएगा और मुझे गले लगाएगा। हेली ने साल 2016 में इस मगरमच्छ को पालतू बनाया था। वे पिछले 30 सालों से मगरमच्छ को बचाने का काम कर रहे हैं।